लकड़ी से कोयला कैसे बनता है।700°C पर लकड़ी जलती क्यों नहीं?

जय हिन्द दोस्तो कैसे है आप लोग hindimetalk.com पर आपका स्वागत है आज हम बात करने वाले हैंं कोयले विषय मे की लकड़ी से कोयला कैसे बनता है आप सब ने कोयला तो देखा ही होगा  आप में से बहुत से लोग ऐसे भी बहुत से लोग होंगे जो हर दिन कोयले का इस्तेमाल करते हैं आपको पता है कि कोयला काला होता है और यह खानो से खोद कर लाया जाता है आप खानो से खोदकर लाए जाने वाले कोयले के विषय में तो जानते ही हैं लेकिन क्या आपको पता है की लकड़ी से भी कोयला बनाया जाता है यदि नहीं जानते हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं की लकड़ी से कोयला कैसे बनता है 

Lakadi-se-koyala-kaise-banata-hai


लकड़ी से कोयला कैसे बनता है

लकड़ी से कोयला बनाने के लिए सबसे पहले बड़े बड़े पेड़ों को काटकर हमें छोटे-छोटे भागों में बांट लिया जाता है अब इसके बाद इन्हें वायु रहित(जहा हवा न हो) पात्र या भट्ठी में रखा जाता है अब इसे 400°C से 700°C डिग्री सेल्सियस तक वायु की अनुपस्थिति में गर्म किया जाता है इस क्रिया को ऊष्माविघटन कहते हैं  इस प्रक्रिया के समाप्त होने के बाद लकड़ी से प्राप्त ठोस पदार्थ को कोयला कहते हैं जिसे काठकोयला भी कहते है


लकड़ी से कोयला कैसे बनता है विस्तार से समझे

लकड़ी से कोयला बनाने के लिए सर्वप्रथम लकड़ी को बट्ठियो में डाला जाता है पहले ये भट्टी मिट्टी की होती थी लेकिन अब इसे और विकसित करके ईट और लोहे की सहायता से बनाया जाता है इसमें लकड़ी डालने की मालिश के मुख्य को मिट्टी की सहायता से पूरी तरह बंद कर दिया जाता है और के अब इसे वायु की अनुपस्थिति में गर्म किया जाता है शुरुआत में 310 डिग्री सेल्सियस पर इसका रंग गाढ़े भूरे रंग का होता है यहां से विघटन की क्रिया के फलस्वरूप जलवाष्प ,कार्बन मोनोऑक्साइड ,कार्बन डाइऑक्साइड जैसे तत्व लकड़ी से निकल जाते है और अंत में केवल जलने योग्य कोयला बचाता है जिसे निकाल कर सीधे जलाने के लिए उपयोग किया जा सकता है

लकड़ी से कोयला बनाने की दूसरी विधि

इस वीडियो में सबसे पहले एक पात्र में लकड़ी को रख दिया जाता है उसके बाद दूसरे पात्र में जलाने वाली लकड़ी को रखने के बाद बंद पत्र को रखकर जलाने वाली लकड़ी में आग लगाकर उस पात्र को भी बंद कर दिया जाता है

                                                               या फिर एक ही पात्र में पहले उस लकड़ी को रखा जाता है जिससे हमें कोयला बनाना है फिर उसके बाद जलाने वाली लकड़ी में आग लगाकर पात्र (भट्ठी) को बंद कर दिया जाता है और जब तक भट्ठी पूरी तरह से ठंडा नहीं होता है इसे नही खोला जाता है पूरी तरह से उठा हो जाने के बाद इसे खोलकर लकड़ी से बने कोयले को निकाल लिया जाता है।


400°C से 700°C पर लकड़ी जलता क्यों नहीं है

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा की लकड़ी से कोयला बनाने के लिए लकड़ी को 400°C से 700°C तक गर्म किया जाता तो यहां पर आपके मन मे ये सवाल जरूर आया होगा कि इतने अधिक ताप पर लकड़ी जलती क्यों नहीं है हम जानते है कि किसी भी चीज को जलाने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है बिना ऑक्सीजन के आप किसी भी वस्तु को नहीं जला सकते हैं और वायुमंडल में अक्सीजन वायु के साथ मिला होता है ऊपर साफ साफ शब्दों में लिखा गया है कि इसे वायु की अनुपस्थिति में गर्म जाता है जब वायु ही नही होगा तो ऑक्सीजन भी नही होगा और बिना ऑक्सीजन के आग लग नही सकती इस लिए इतने अधिक ताप पर भी लकड़ी नही जलती है

क्या आपको इसके बारे में पहले से पता था हमे कॉमेंट करके जरूर बताए ताकि हम आपके लिए ऐसे ही और अधिक जानकारियों को अपने लेख बता पाए

गर्मी में मटके का पानी ठंडा क्यों होता है।

Train me 2S, CC, SL ka matlab क्या होता है।

सीमेंट कैसे बनता है?
विद्युत धारा क्या है यह कितने प्रकार की होती है?

लकड़ी से कोयला कहा बनाया जाता है?

लकड़ी से कोयला लगभग हर देशों में बनाया जाता है जहां पर भी लकड़ी आसानी से उपलब्ध हो जाती है लेकिन इसे व्यवसायिक और औद्योगिक रूप में नहीं बनाया जाता है इसे गैरकानूनी माना जाता है क्योंकि लकड़ी से कोयला बनाने के लिए अधिक लकड़ी की आवश्यकता होती है जिससे लोग पेड़ को काटते हैं और इससे हमारा पर्यावरण प्रभावित होगा

लकड़ी से कोयला जंगल में रहने वाले लोग गैर कानूनी तरीके से बनाते हैं भारत के जंगलों में ऐसे कई जगहों पर गैरकानूनी तरीके से लकड़ी से कोयले बनाए जाते हैं


लकड़ी से प्राप्त कोयले के गुण

इसमें कार्बन की मात्रा बहुत अधिक लगभग 80% होती है एक भंगुर पदार्थ है जिसे पीटने पर चूर हो जाता है इसका उष्मीय मान 29000से35000 kj/kg जो की लकड़ी के उस उष्मीय मान से बहुत अधिक होता है इसमें रंध्र बहुत अधिक होते हैं जिसकी वजह से बहुत अधिक वायु को रोक सकता है इसी कारण है एक अच्छा ईंधन है यह लकड़ी की भांति ही पानी में तैरता है

कोयले का उपयोग

धातु कर्म में ईंधन के रूप में खाना बनाने के इंधन के रूप में, बारूद बनाने के लिए ,सुध्धिकरण में,और कलाकारी के क्षेत्र में भी इसका उपयोग किया जाता है


लकड़ी से कोयला बनाते समय सावधानिया

एक बार आग लगाने के पश्चात कम से कम 3 से 5 घंटे तक लगातार आग जलती रहनी चाहिए जब तक आग पूरी तरह से ठंडा नहीं हो जाता तब तक इसे न हटाए


लकड़ी से कोयला कैसे बनता है।वीडियो देखे इसमें लकड़ी से कोयला बनाने की प्रक्रिया को को सुरु से अंत तक समझाया और दिखाया गया जिससे इस वीडियो को देखने के बाद आपके सारे सवालों के जवाब मिल जायेंगे।

लकड़ी से कोयला कैसे बनता है पर हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों और जानने वाले लोगों के साथ जरूर शेयर करें


यदि आप हमसे कोई सवाल पूछना चाहते हैं आप फिर आप हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप ही कमेंट करें हम आपका इंतजार कर रहे हैं

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Train में RAC टिकट का मतलब क्या होता है। यह कब कन्फर्म होता है। RAC ka full form.

ट्रेन में जनरल डिब्बे की पहचान कैसे करें।ऐसे पहचाने ट्रेन में जनरल डिब्बे को।

एक करोड़ में कितने जीरो होते है। How many zero in 1 crore.

Moj app से पैसे कमाने के 5 सबसे आसान तरीके 2023